Asian Development Bank

Banking Business Economy, Banking notes 0 Comments
Asian Development Bank (ADB)

The Asian Development Bank (ADB) was established in 1966. The purpose of the establishment of this bank was to accelerate economic and social development in the Asia-Pacific region. On January 1, 1967, the bank started working fully, its headquarters ” Manila “is located in the Philippines. Its presidency is always given to Japanese while its 3 Deputy Chairman is given to the US, Europe and Asia citizens.

इस पोस्ट को हिंदी में पढ़ने के लिया पेज को नीचे की और स्क्रोल करो

एशियाई विकास बैंक (ADB) की स्थापना 1966 में हुई थीl इस बैंक की स्थापना का उद्देश्य एशिया-प्रशांत क्षेत्र में आर्थिक और सामाजिक विकास को गति देना थाl 1 जनवरी, 1967 को इस बैंक ने पूरी तरह से काम करना शुरू किया थाl इसका मुख्यालय “मनीला”, फिलीपींस में स्थित हैl इसकी अध्यक्षता हमेशा जापानी को दी जाती है जबकि इसके 3 डिप्टी चेयरमैन का पद किसी अमेरिका, यूरोप और एशिया के नागरिक को दिया जाता हैl

The Asian Development Bank (ADB) is a regional development bank established on December 19, 1966. The purpose of the establishment of this bank was to accelerate economic and social development in the Asia-Pacific region. On 1 January 1967 the bank fully Its headquarters, “Manila”, is located in the Philippines. Its presidency is always given to a Japanese while its 3 deputy chairman is concerned about the US, Europe and Asia And The chairman of the Asian Development Bank’s current president and the Board of Directors of the Asian Development Bank are “takehiko nako”, which is related to Japan.

एशियाई विकास बैंक (ADB) एक क्षेत्रीय विकास बैंक है जिसकी स्थापना 19 दिसम्बर 1966 को की गयी थीl इस बैंक की स्थापना का उद्देश्य एशिया-प्रशांत क्षेत्र में आर्थिक और सामाजिक विकास को गति देना थाl 1 जनवरी, 1967 को इस बैंक ने पूरी तरह से काम करना शुरू किया थाl इसका मुख्यालय “मनीला”, फिलीपींस में स्थित हैl इसकी अध्यक्षता हमेशा एक जापानी को दी जाती है जबकि इसके 3 डिप्टी चेयरमैन का संबंध अमेरिका, यूरोप और एशिया से होता हैl एशियाई विकास बैंक के वर्तमान अध्यक्ष और एशियाई विकास बैंक के निदेशक मंडल के अध्यक्ष “ताकेहिको नकाओ” हैं जिनका संबंध जापान से हैl

The Asian Development Bank promotes development through the following support media

(एशियाई विकास बैंक निम्नलिखित सहायता माध्यमों के द्वारा विकास को बढ़ावा देता है:)

(1). New Delhi: Asian Development Bank (ADB) has reduced the GDP growth rate of India’s GDP to 7.4 percent from earlier 7.4 percent for the current financial year. According to ADB, estimates of growth rate will be low due to private consumption, production of factories and weakening of business investment.

नई दिल्ली: एशियाई विकास बैंक (एडीबी) ने चालू वित्त वर्ष के लिए भारत का सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर का अनुमान पहले के 7.4 प्रतिशत से घटाकर 7 प्रतिशत कर दिया है. एडीबी के मुताबिक निजी खपत, कारखानों के उत्पादन और कारोबारी निवेश कमजोर रहने की वजह से वृद्धि दर की गति कम रहने का अनुमान है.

(2). The bank also reduced its estimates for the financial year 2018-19 to 7.6 percent from the earlier 7.6 percent. However, he has increased the proportion of China’s growth.

बैंक ने वित्त वर्ष 2018-19 के लिए भी अपने वृद्धि के अनुमान को पहले के 7.6 प्रतिशत से कम करके 7.4 प्रतिशत कर दिया. हालांकि, उसने चीन की वृद्धि के अनुमान बढ़ा दिया है.

(3). The Asian Development Bank has said in its updated report of Asian Development Outlook 2017 that in the current financial year i.e. in 2017-18, the GDP growth rate of India is estimated at 7 percent. It is less than 7.1 percent of the financial year 2016-17. Earlier, it had estimated India’s growth rate to be 7.4 percent in July.

एशियाई विकास बैंक ने अपनी एशियाई विकास परिदृश्य 2017 की अद्यतन रिपोर्ट में कहा है कि चालू वित्त वर्ष यानी 2017-18 में भारत की जीडीपी वृद्धि दर घटकर 7 प्रतिशत रहने का अनुमान है. यह वित्त वर्ष 2016-17 के 7.1 प्रतिशत से कम है. इससे पहले उसने जुलाई में भारत की वृद्धि दर 7.4 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया था.

(4). Similarly, the growth rate for the financial year 2018-19 has been reduced to 7.4 percent, which was estimated to be 7.6 percent in July. However, the bank increased the economic growth for China to a revised estimate of 6.7 percent for the year 2017, which was 6.5 percent earlier. Similarly, for the year 2018, it has estimated China’s growth rate to 6.4 percent, which was previously 6.2 percent.

इसी प्रकार वित्त वर्ष 2018-19 के लिए वृद्धि दर का आंकड़ा घटाकर 7.4 प्रतिशत किया गया है जो कि जुलाई में 7.6 प्रतिशत रहने का अनुमान था.
हालांकि, बैंक ने चीन की आर्थिक वृद्धि के लिए संशोधित अनुमान वर्ष 2017 के लिए कुछ बढाकर 6.7 प्रतिशत कर दिया जो कि पहले 6.5 प्रतिशत था. इसी प्रकार वर्ष 2018 के लिए उसने चीन की वृद्धि दर का अनुमान 6.4 प्रतिशत कर दिया जो पहले 6.2 प्रतिशत रखा था.

(5). Multilateral bank ADB has expressed hope of increasing the growth on the basis of reforms in India and said, the potential increase in living under inflation and the potential increase in labor are expected to increase private consumption. Along with the new tax system, with the industry sector being reconciled, manufacturing can also be revived again.

बहुपक्षीय बैंक एडीबी ने भारत में सुधारों के आधार पर वृद्धि तेज रहने के आसार जताए हैं और कहा, मुद्रास्फीति के नीचे रहने और मेहनताने में संभावित वृद्धि से निजी उपभोग बढ़ने उम्मीद है. साथ ही नई कर व्यवस्था के साथ उद्योग क्षेत्र का सामंजस्य स्थापित होने पर विनिर्माण में भी फिर से तेजी आ सकती है.

(6). The effect of the ban and the introduction of new goods and services system has been on the economic growth of India. This is the reason why India’s economic growth in the first quarter of the current financial year was at the lowest level of three years i.e. at 5.7 percent.

नोटबंदी और नई माल एवं सेवाकर व्यवस्था को लागू करने का प्रभाव भारत की आर्थिक वृद्धि पर पड़ा है. यही वजह है कि चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में भारत की आर्थिक वृद्धि तीन साल के सबसे निचले स्तर पर यानी 5.7 प्रतिशत पर रही है.

(7). It has been said that weak trend in private consumption, manufacturing production and business investment has affected the country’s growth scenario in the short term. But it is expected that in the medium term these dividends will increase from these initiatives.

रिपोर्ट में कहा गया है कि निजी उपभोग, विनिर्माण उत्पादन और कारोबारी निवेश में कमजोर रुख से अल्पावधि में देश के वृद्धि परिदृश्य पर असर पड़ा है. लेकिन उम्मीद की जाती है कि मध्यम अवधि में इन पहलों से वृद्धि लाभांश अर्जित होगा.

(8). Private and industry consumption fell in the June quarter compared to the previous quarters. The creation of permanent capital has also increased at a slow pace of 1.6 percent, which shows a lot of drowsiness in private investment. However, in the sector of government consumption and services, though the activities remain sharp.

जून तिमाही में निजी और उद्योग उपभोग पिछली तिमाहियों के मुकाबले गिरा है. स्थायी पूंजी का निर्माण भी 1.6 प्रतिशत की धीमी गति से बढ़ा है जो निजी निवेश में भारी सुस्ती को दर्शाता है.हालांकि, सरकारी उपभोग एवं सेवाओं के क्षेत्र में हालांकि गतिविधियां तेज बनी हुई हैं.

(9). According to Yasuyuki Sawda, Chief Economist of Asian Development Bank, the agenda of ambitious reforms in India will show a high growth in the country’s economy in the long run.

एशियाई विकास बैंक के मुख्य अर्थशास्त्री यासुयुकी सवाडा के अनुसार भारत में महत्वाकांक्षी सुधारों के एजेंडा से दीर्घकाल में देश की अर्थव्यवस्था में ऊंची वृद्धि दर्ज की जाएगी.

(10). He said, Despite the initial difficulties being faced by companies in adopting GST, we believe that the progress of reforms will help India to maintain the world’s most dynamic emerging economy.

उन्होंने कहा, जीएसटी को अपनाने में कंपनियों को हो रही शुरुआती दिक्कतों के बावजूद हमारा विश्वास है कि सुधारों की प्रगति भारत को विश्व की सबसे गतिशील उभरती अर्थव्यवस्था बनाए रखने में मदद करेगी.

(12). The report further expects that in the current financial year, the increase in the inflation and the increase in the labor force are expected to increase the consumption of private consumption, which will lead to the pace of the economy.

रिपोर्ट में आगे उम्मीद जताई गई है कि चालू वित्त वर्ष में महंगाई कम रहने और मेहनताने में वृद्धि से निजी उपभोग बढ़ने की उम्मीद है जिससे अर्थव्यवस्था में तेजी का रुख रहेगा.

(13). The bank has expressed the hope that inflation will be 4 percent on the average basis in the current financial year. It has been estimated to be 4.6 percent in the next financial year. It is much below the previous estimates of the bank. Earlier, the bank had projected 5.2% of inflation and 5.4% in the next financial year during the current financial year.

बैंक ने चालू वित्त वर्ष में मुद्रास्फीति के औसत आधार पर 4 प्रतिशत रहने की उम्मीद जताई है. अगले वित्त वर्ष में इसके 4.6 प्रतिशत रहने का अनुमान व्यक्त किया गया है. यह बैंक के पहले के अनुमान से काफी नीचे है. बैंक ने इससे पहले चालू वित्त वर्ष के दौरान मुद्रास्फीति के 5.2 प्रतिशत और अगले वित्त वर्ष में 5.4 प्रतिशत रहने का अनुमान व्यक्त किया था.

(14). The bank has projected the growth of developing Asia for 5.7 percent for 2017 and 5.8 percent for 2018. In the past, he kept it 5.7 percent for the two years. In the developing Asia region, 45 countries of the Asia Pacific region are included.

बैंक ने विकासशील एशिया की वृद्धि का अनुमान 2017 के लिए 5.9 प्रतिशत और 2018 के लिए 5.8 प्रतिशत रखा है. पूर्व में इसे उसने दोनों वर्ष के लिए 5.7 प्रतिशत रखा था. विकासशील एशिया क्षेत्र में एशिया प्रशांत क्षेत्र के 45 देश शामिल हैं.

Important Fact Related Asian Development Bank (ADB)

(A).The idea of formation of Asian Development Bank (ADB) was conceived in 1960s with a mission to fight poverty in Asia and the Pacific. A resolution was passed in 1963 that set the vision on the way to becoming reality. ADB was opened on 19 December 1966 with 31 members and Takeshi Watanabe from Japan was ADB’s first President. It set up in Manila, Philippines so which is its headquarters. ADB’s all presidents are from Japan.

(B).ADB has now 67 members of which 48 are from the Asia and Pacific region. India joined ADB in 1966. ADB assists its members, and partners, by providing loans, technical assistance, grants, and equity investments to promote social and economic development.

 

Note: The way ADB provided its Assistance to the countries in Need

(1).During the 1960s, ADB focused much of its assistance on food production and rural development.

(2).When the world suffered its first oil price shock, ADB increased its support for energy projects.

(3).In 1974, ADB provided low-interest loans to ADB’s poorest members.

(4).In the wake of the second oil crisis, ADB continued its support to infrastructure development.

(5).In 1982, ADB opened its first field office—in Bangladesh—to bring operations closer to the people in need.

(6).In 1997 financial crisis in Asia, ADB provided support financial sectors and create social safety nets for the poor.

(7).In 2003, when the severe acute respiratory syndrome (SARS) epidemic hit the region, ADB provided support at national and regional levels to help the countries.

(8).ADB also helped India, Indonesia, Maldives, and Sri Lanka when these were hit by the December 2004 Asian tsunami by providing more than $850 million for recovery.

Note = हमारी अन्य GK की पोस्ट पड़ने के लिए यह पर CLICK करे |

न्यू डेवलपमेंट बैंक क्या है

अंतरराष्ट्रीय समझौते के बैंक्स (बीआईएस) 

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष या अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष

विश्व बैंक के बारे में महत्‍वपूर्ण जानकारी

हम आशा करते हैं कि आपको पढकर अच्छा लगा होगा, तो अपने दोस्तों में शेयर करें ।