History of Hadauti Chauhan Dynasty of Rajasthan

Rajasthan History, Rajasthan Static GK 0 Comments
हाडोती के चौहानों का इतिहास

The Pratihars ruled Rajasthan and most of northern India during 750-1000 AD. Between 1000-1200 AD, Rajasthan witnessed the struggle for supremacy between Chalukyas, Parmars and Chauhans. … Prithviraj Chauhan was a king of the Rajput dynasty, who ruled a kingdom in northern India during the later half of the 12th century.

इस पोस्ट को हिंदी में पढ़ने के लिया पेज को नीचे की और स्क्रोल करो

 (1). Chauhan of Hadauti (Chauhan Dynasty)

(2). Hadoti covers areas of the present Kota, Bundi, Bara, Jhalawar.

(3). The southern-eastern part of Rajasthan (Kota, Bundi, Bara, Jhalawar) is called Hadauti.

(4). Hadoti area used to be in Bundi in the past.

(5). During the Mahabharata period, the Matsya (Meena) caste used to live here.

(6). Bundi was named after Bunda Meena, the ruler of this place.

(7). In 1342 AD, Hada Chauhan Deva defeated the Meenas and established the rule of the Chauhan dynasty.

(8). The first entry of Marathas in Rajasthan was in Bundi.

(9). In 1743, Rani Amarkanwari, the Kachhawa of Bundi ruler Buddha Singh, invited Maratha chieftain Holkar and Ranoji Scindia in favor of his son Ummed Singh.

(10). In 1818 AD, the ruler of Bundi, Vishnu Singh made a helpful treaty with the British.

(11). In 1569 AD, Surjan Singh, the ruler of Bundi, made a treaty with Akbar.

(12). During the time of the Mughal Emperor Farrukhshiyar, the captive King Buddha Singh did not go against Jaisingh of Jaipur, named Bundi as Farrukhabad and gave the rule Kota King.

(1). हाड़ौती के चौहान (चौहान वंश)

(2).  हाड़ौती में वर्तमान कोटा, बूंदी, बारा, झालावाड़ के क्षेत्र आते है।

(3).  राजस्थान का दक्षिणी-पूर्वी भाग (कोटा, बूंदी, बारा, झालावाड़) हाड़ौती कहलाता है।

(4).  पूर्व में हाड़ौती क्षेत्र बूंदी में ही आता था।

(5).  महाभारत काल में यहाँ मत्स्य (मीणा) जाति निवास करती थी।

(6).  बूंदी का यह नाम  यहाँ के शासक बूँदा मीणा के नाम पर पड़ा था।

(7).  1342 ई. में हाड़ा चौहान देवा ने मीणाओं को पराजित कर चौहान वंश का शासन स्थापित किया।

(8).  राजस्थान में मराठों का सर्वप्रथम प्रवेश बूंदी में हुआ था।

(9).  1743 ई. में बूंदी के शासक बुद्ध सिंह की कच्छावा रानी अमरकंवरी ने अपने पुत्र उम्मेद सिंह के पक्ष में मराठा सरदार होल्कर व राणोजी सिंधिया को आमंत्रित किया।

(10). 1818 ई. में बूंदी के शासक विष्ण सिंह ने अंग्रेजो से सहायक संधि की।

(11).  1569 ई. में बूंदी के शासक सुरजन सिंह ने अकबर से संधि की।

(12). मुगल बादशाह फर्रुखशियर के समय बंदी नरेश बुद्ध सिंह द्वारा जयपुर के जयसिंह के खिलाफ नहीं जाने पर बूंदी का नाम फर्रुखाबाद रखा तथा शासन कोटा नरेश दिया।