History of Jat Dynasty of Bharatpur

Rajasthan History, Rajasthan Static GK 0 Comments
History of Jat Dynasty of Bharatpur

The chronology of Sinsinwar Jat clan rulers of Bharatpur is: Gokula, ? – 1670. Raja Ram, 1670–1688. … Maharaja Jawahir Singh, 1763–1768 (son of Maharaja Brajendra Surajmal Bahadur by Rani Ganga), 3rd Maharaja of Bharatpur 1763/1768,was murdered at Agra in 1768 during hunting.Gokula or Gokul Singh (died 1670 AD) was a Jat chieftain of village Sinsini in … His influence upon the contemporary history has not been properly assessed so far. … At the time of his death Maraja Suraj Mal’s Empire included Agra, Dholpur.

इस पोस्ट को हिंदी में पढ़ने के लिया पेज को नीचे की और स्क्रोल करो

 History of Jat Dynasty of Bharatpur

(1). Jat dynasty of Bharatpur-

(A). The Jat dynasty was ruled over the areas of Bharatpur, Dholpurus boast, etc. in the eastern part of Rajasthan.

(B). The name of this dynasty is named Bharatpur dynasty only after Rama’s brother Bharata.

(2). Gokul Jat-

(A) In 1669 AD, the first organized rebellion against Aurangzeb was led by Jats of Mathura region under the leadership of local landowner Gokul Jat.

(B). This was the first Hindu revolt against Aurangzeb.

(C). On 10 May 1666, there was a battle of Tilpat in the army of Gokul Jat (Jats) and Aurangzeb.

(D). Gokul Jat was defeated and killed by Mughal Faujdar Hasan Ali Khan in the battle of Tilpat.

(3). Rajaram Jat-

(A). After Gokul Jat, Rajaram Jat led the Jat rebellion.

(B) In 1685 AD, there was a second Jat rebellion under the leadership of Rajaram.

(C). Akbar’s tomb situated in Sikandra (Agra) was looted and Akbar’s bones were removed from the tomb and burnt by Hindu methods.

(D). In 1688 AD, Raja Ram was defeated by the grandson of Aurangzeb and the ruler of Amer, Bison Singh.

(4). Chudaman Jat-

(A). After Rajaram’s death in 1688 AD, his nephew Chudaman or Chudaman took over the reins of the Jat leadership.

(B). Chudaman Jat established his kingdom by building a fort at Thun.

(5). Badan Singh Jat-

(A) .Badan Singh Jat took possession of Agra and Mathura and laid the foundation of the new royal house of Bharatpur.

(B). Badansingh Jat built new forts in Deeg, Kumher, Bair and Bharatpur.

(C). Surajmal Jat, son of Badansingh Jat, built the fort near Sodhar which became famous as Bharatpur or Lohgarh or Ajaygarh fort.

(D). Badansingh Jat made Bharatpur his capital.

(E). Built a temple in Vrindavan and built some palaces in the fort of Deeg.

(F). Badansingh Jat was conferred the title of Brajraj by Jaipur King Sawai Jai Singh.

भरतपुर के जाट वंश का इतिहास

(1).भरतपुर का जाट वंश-

(A).राजस्थान के पूर्वी भाग भरतपुर, धौलपुरस डींग आदि क्षेत्रों पर जाट वंश का शासन था।

(B).राम के भाई भरत के नाम पर ही इस राजवंश का नाम भरतपुर राजवंश पड़ा है।

(2).गोकुल जाट-

(A).1669 ई. में मथुरा क्षेत्र के जाटों द्वारा स्थानीय जमीदार गोकुल जाट के नेतृत्व में औरंगजेब के खिलाफ पहला संगठित विद्रोह किया गया था।

(B).औरंगजेब के खिलाफ यह पहला हिन्दु विद्रोह था।

(C).10 मई 1666 को गोकुल जाट (जाटों) व औरंगजेब की सेना में तिलपत का युद्ध हुआ था।

(D).तिलपत के युद्ध में मुगल फौजदार हसन अली खां ने गोकुल जाट को पराजित कर मार डाला था।

(3).राजाराम जाट-

(A).गोकुल जाट के बाद राजाराम जाट ने जाट विद्रोह का नेतृत्व किया।

(B).1685 ई. में राजाराम के नेतृत्व में दूसरा जाट विद्रोह हुआ था।

(C).सिकन्दरा (आगरा) में स्थित अकबर के मकबरे को लूटा तथा मकबरे में अकबर की हड्डियों को निकाल कर हिन्दु विधियों से जला दिया था।

(D).1688 ई. में औरंगजेब के पौत्र तथा आमेर के शासक बिसन सिंह ने राजाराम को पराजित किया।

(4).चूडामन जाट-

(A).1688 ई. में राजाराम की मृत्यु के बाद उनके भतीजे चूडामन या चूड़ामन ने जाट नेतृत्व की बागडोर संभाली।

(B).चूडामन जाट ने थून में किला बनाकर अपना राज्य स्थापित किया।

(5).बदन सिंह जाट-

(A).बदन सिंह जाट ने आगरा व मथुरा पर अधिकार करके भरतपुर के नये राजघराने की नींव डाली।

(B).बदनसिंह जाट ने डीग, कुम्हेर, बैर व भरतपुर में नये दुर्ग बनवाये।

(C).बदनसिंह जाट के पुत्र सूरजमल जाट ने सोधर के निकट दुर्ग का निर्माण करवाया जो भरतपुर या लोहगढ़ या अजयगढ़ दुर्ग के नाम से प्रसिद्ध हुआ।

(D).बदनसिंह जाट ने भरतपुर को अपनी राजधानी बनाया।

(E).वृंदावन में एक मंदिर बनवाया तथा डीग के किले में कुछ महलों का निर्माण करवाया।

(F).बदनसिंह जाट को जयपुर नरेश सवाई जयसिंह ने ब्रजराज की उपाधि प्रदान कर डीग परगने की जागीर दी।