Important Facts About North Western Desert Region Part (3)

Rajasthan Geography, Rajasthan Static GK 0 Comments
Important facts about North Western Desert Region

These are found in the north-eastern desert part- Hanumangarh to Hisar-Bhiwani (Haryana). In the eastern part of the sandy dry plain, there is also a sand-free area which lacks sand. This region is also called the rocky region of Jaisalmer-Barmer.And It is the world’s 17th largest desert, and the world’s 9th largest subtropical desert. About 85% of the Thar Desert is located within India, with the remaining 15% in Pakistan. In India, it covers about 170,000 km2 (66,000 sq mi), and the remaining 30,000 km2 (12,000 sq mi) of the desert is within Pakistan.

इस पोस्ट को हिंदी में पढ़ने के लिया पेज को नीचे की और स्क्रोल करो

 

Important Facts About North Western Desert Region Part (2)

(A). Major water sources of Thar Desert in Rajasthan (Major water sources of Rajasthan) –

(1).Aagor

(2).Naadee

(3). Toba

(4). The berry

(5). Taake

(6).khadeen

(1).Aagor

(A). Agra is the water source of Rajasthan.

(B). Agra is the water source of Jaisalmer district, mainly in Rajasthan.

(C). A water tank (tanko or kundi) made in the courtyard of houses in the Thar Desert in Rajasthan is called Agore.

(2).Nadi

(A). Nadi is the water source of Rajasthan.

(B). In Rajasthan, small fields or ponds in the Thar Desert are called Nadi.

(3) .Toba-

(A). Toba is the water source of Rajasthan.

(B). Deep ravines or pulse (Hod) in the Thar Desert in Rajasthan is called Toba.

(4) .berry-

(A). Beri is the water source of Rajasthan.

(B). Small wells or wells in the Thar Desert in Rajasthan are called berries.

(5).Taake

(A). Taake are the water source of Rajasthan.

(B) .Stitches are called water tanks in the Thar Desert in Rajasthan.

(6).Khadin

(A). Khadin is the water source of Rajasthan.

(B). Lack of ponds is found in Jaisalmer district of Rajasthan, hence water is stopped and cultivated in the rainy season by making sail in the fields. This agriculture is called Khadin.

(A).राजस्थान में थार के मरुस्थल के प्रमुख जल स्त्रोत (राजस्थान के प्रमुख जल स्त्रोत)-

(1).आगोर

(2).नाड़ी

(3).टोबा

(4). बेरी

(5).टांके

(6).खड़ीन

(1).आगोर-

(A).आगोर राजस्थान का जल स्त्रोत है।

(B).आगोर राजस्थान में मुख्यतः जैसलमेर जिले का जल स्त्रोत है।

(C).राजस्थान में थार के मरुस्थल में घरों के आंगन में बनाये जाने वाली पानी की टंकी (टांको या कुण्डी) को आगोर कहते है।

(2).नाड़ी-

(A).नाड़ी राजस्थान का जल स्त्रोत है।

(B).राजस्थान में थार के मरुस्थल में छोटी-छोटी खेळों या पोखरों को नाड़ी कहते है।

(3).टोबा-

(A).टोबा राजस्थान का जल स्त्रोत है।

(B).राजस्थान में थार के मरुस्थल में गहरी-गहरी नाळियों या नाड़ी (होद) को टोबा कहते है।

(4).बेरी-

(A).बेरी राजस्थान का जल स्त्रोत है।

(B).राजस्थान में थार के मरुस्थल में छोटे-छोटे कुओं या कुईयों को बेरी कहते है।

(5).टांके-

(A).टांके राजस्थान का जल स्त्रोत है।

(B).टांके राजस्थान में थार के मरुस्थल में पानी की टंकी को कहते है।

(6).खड़ीन-

(A).खड़ीन राजस्थान का जल स्त्रोत है।

(B).राजस्थान के जैसलमेर जिले में तालाबों का अभाव पाया जाता है इसीलिए वर्षा ऋतु में खेतों में पाल बनाकर पानी को रोका जाता है तथा कृषि की जाती है इसी कृषि को खड़ीन कहते है।