Important Information About Men’s Costumes Of Rajasthan

Indian Static GK, Rajasthan History, Static General GK 0 Comments
women costumes of Rajasthan

The traditional outfit for Rajasthani men is dhoti and angarkha, or pyjama-kurta. The dhoti is a long piece of cloth tied around the waist and wrapped around like a loin-cloth between the legs. It is paired with angarkha, a type of robe characterized by an inner panel that covers the chest.

इस पोस्ट को हिंदी में पढ़ने के लिया पेज को नीचे की और स्क्रोल करो

 

Important Information About Women Costumes Of Rajasthan

Men’s Clothing (Rajasthani Costumes)

(1). Angkhari / Bugari –

(A). Clothing worn in the upper part of men’s body is called tunkari / bugtari.

(2) .thepara / dhepara-

(A). Tight dhoti worn by Bhil men is called Dhapeak.

(3). Potya

(A). The Bhil men’s affection is called Potya.

(4). Khoyotu / Khayotu-

(A). The loincloth tied by Bhil men is called Khoytu / Khayotu.

Note: – Other important facts

(5). Ultimate happiness-

(A). To avoid strong cold, clothes worn in clothes are called atmsukh.

(6). Khapatta

(A). The affection of Urbania tribe is known as Khapatta.

(7). Types of Got-

(1). Lappa

(2). Lappi

(3). beam

(4). Banker

(5). Nodani

(6). Satdani

(7). Bijia

(8). Gota Industry-

(A). Gota Udyog is famous of Khandela (Sikar) in Rajasthan.

(9). Lugra Patoda

(A) .Lugra Patoda (Sikar) is famous in Rajasthan.

(10). Bondage-

(A). In Rajasthan, the maximum work of bondage is done in Sujangarh (Churu).

(B). The largest mandi of Bandhej in Rajasthan is located in Jodhpur.

(11). Turban-

(A). Turban is considered a status symbol.

(B). Turban is also called Paga and Pecha.

(C). Turban is considered famous in Udaipur district in Rajasthan.

(D). The world’s largest turban is housed in the Bagaur Museum (Udaipur).

पुरुषों के पहनावे (राजस्थानी वेशभूषा)

(1).अंगरखी/ बुगतरी-

(A).पुरुषों के शरीर के उपरी भाग में पहने जाने वाले वस्त्र को अंगरखी/ बुगतरी कहते है।

(2).ठेपाड़ा/ढेपाड़ा-

(A).भील पुरुषों के द्वारा पहनी जाने वाली तंग धोती को ढ़ेपाक कहते है।

(3).पोत्या-

(A).भील पुरुषों के साफे को पोत्या कहते है।

(4).खोयतू/खयोतू-

(A).भील पुरुषों के द्वारा बांधे जाने वाली लंगोटी को खोयतू/ खयोतू कहते है।

Note:–अन्य महत्वपूर्ण तथ्य

(5).आतम सुख-

(A).तेज सर्दी से बचने के लिये ओढ़े जाने वाले वस्त्र को अात्मसुख कहते है।

(6).खपट्टा-

(A).शहरीया जनजाती के साफे को खपट्टा कहते है।

(7).गोटे के प्रकार-

(1). लप्पा

(2). लप्पी

(3). किरण

(4). बांकड़ी

(5). नोदाणी

(6). सतदानी

(7). बिजिया

(8).गोटा उद्योग-

(A).राजस्थान में गोटा उद्योग खण्डेला (सीकर) का प्रसिद्ध है।

(9).लुगड़ा-

(A).राजस्थान में लुगड़ा पाटोदा (सीकर) का प्रसिद्ध है।

(10).बंधेज-

(A).राजस्थान में बंधेज का सर्वाधिक कार्य सुजानगढ़ (चूरू) में किया जाता है।

(B).राजस्थान में बंधेज की सबसे बड़ी मंडी जोधपुर में स्थित है।

(11).पगड़ी-

(A).पगड़ी को प्रतिष्ठा का प्रतीक माना जाता है।

(B).पगड़ी को पागा तथा पेचा भी कहते है।

(C).राजस्थान में पगड़ी उदयपुर जिले की प्रसिद्ध मानी जाती है।

(D).विश्व की सबसे बड़ी पगड़ी बागौर संग्रहालय (उदयपुर) में रखी हुई है।