Important Information about The Atomic bombings of Hiroshima and Nagasaki

Current GK Quiz, Static General GK, Today News GK Article, World GK 0 Comments
The Atomic bombings of Hiroshima and Nagasaki

When atomic bombs were dropped on Hiroshima and Nagasaki of Japan in 1945, then it was known all over the world. Everyone was saying he did it wrong, but America was saying he did it right. Well, leave, today we will tell the complete information about this attack through interesting facts.and The United States detonated two nuclear weapons over the Japanese cities of Hiroshima and Nagasaki on August 6 and 9, 1945, respectively, with the consent of the United Kingdom, as required by the Quebec Agreement

इस पोस्ट को हिंदी में पढ़ने के लिया पेज को नीचे की और स्क्रोल करो

 

(1). The first atomic bomb was dropped on Hiroshima on August 6, 1945 at eight in the morning and the second just three days later, on August 9, Nagasaki. Since then, nuclear weapons have not been used again for the attack till date. The decision to drop the bomb on Hiroshima was taken just one hour before the bomb fell.

(2). The name of the bomb dropped on Hiroshima was “Little Boy”. Its weight was about 4000 kg and length was 10 feet. The amount of uranium in it was 65 kg, but the explosion was caused by only 0.7g of uranium. That is, the weight of the substance which caused the explosion was not even equal to the note of an alpin or a dollar. The bomb dropped on Nagasaki was named “Fat Man”. Its weight was about 4500 kg and length was 11.5 feet. 6.4 kg of plutonium was used in it, which was more powerful than uranium.

(3). The bomb to be dropped on Nagasaki was first to be dropped on Kokura city of Japan but at that time the weather in Kokura city was not clear and the clouds were too dense so the US Army dropped the bomb on Nagasaki. It was also planned to drop this bomb on Kyoto city. But Secretary of War Henry Stimson changed it because he had honeymoon here with his wife and many of his memories were associated with this city.

(4). The name of the aircraft carrying the bomb which was dropped on Hiroshima was “Enola Gay”. In this aircraft, 12 cyanide tablets were also kept, so that if the mission fails, then all the officers eat them. The plane from which the second bomb was dropped was named “Bockscar”. Around 2,46,000 people from Hiroshima and Nagasaki were killed as the bomb fell. Nearly 1 lakh people were killed as soon as the bomb fell and the rest died of serious diseases like cancer in the next few years.

(5). At the time of the Hiroshima attack, the temperature of the bombing site reached 300,000 ° C and below that the ground temperature was about 4,000 ° C, which is enough to melt the steel. The attack caused a storm at a speed of 1005 kilometers per hour and deep pits were formed in 10 square kilometers and a pressure of 19 tons per square inch was created up to 500 meters. This was enough to wind up any huge building.

(6). Nagasaki and Hiroshima are radioactive free today. Because both atomic bombs exploded in the air at a height of a few hundred feet from the ground. A month after the Hiroshima attack, a cyclone hit the city that killed 2000 people and a dozen Americans were also killed in the Hiroshima bomb attack. America came to know in 1970.

(7). After the attack on Hiroshima, a policeman went to Nagasaki and alerted the police there that the result of this was that no policeman was killed in the Nagasaki nuclear attack. Shikegi Tanaka The 13-year-old who was at the time of the Hiroshima attack saw the explosion from 20 miles away. The man, who survived the nuclear attack, went to Boston six years later in 1951 and won a marathon there.

(8). Sutomo Yamaguchi was a person suffering from both bomb attacks. Actually, it happened that when the bomb fell on Hiroshima, it was then that he went to his village Nagasaki, then the bomb was dropped there too. But he was so lucky that he survived both times. He died of stomach cancer in 2010. The US dropped 49 bombs on Japan as a practice before dropping bombs on Hiroshima and Nagasaki. In which 400 people died and 1200 people were injured.

(9). Six days after the Nagasaki nuclear attack, King Hirohito of Japan surrendered to the US Army. This announcement was made on radio and most of the Japanese heard his voice for the first time. If Japan did not surrender, the US had planned to drop an atomic bomb on another city on August 19. America has not apologized to Japan for the nuclear attacks till date. Barack Obama is the first US President to visit Hiroshima 71 years after the attack.

(10) .Japan, in 1964, lit a flame in honor of the victims of the bomb attacks which continues till today. It will be extinguished on the day that all the atomic bombs will be eliminated from the world and this world will be freed from the nuclear attack. Tomorrow you will get new posts via Atom Bomb, Hydrogen Bomb etc. All of these will be given tremendous information. Such as: What is the expiry date of a nuclear bomb? How much noise does a nuclear bomb produce? The world’s most powerful bomb can cause so much destruction

“हिरोशिमा और नागासाकी पर गिराए गए परमाणु बमों के बारे में जानकारी”

जब 1945 में जापान के हिरोशिमा और नागासाकी पर परमाणु बम गिराया गया था तब इसकी बात पूरी दुनिया में चली थी. सब कह रहे था गलत किया, लेकिन अमेरिका कह रहा था ठीक किया. खैर छोड़िए, आज हम इस हमले की पूरी जानकारी रोचक तथ्यों के माध्यम से बताएगे.

(1). पहला परमाणु बम 6 अगस्त, 1945 को सुबह सवा आठ बजे हिरोशिमा पर और दूसरा इसके ठीक तीन दिन बाद, 9 अगस्त को नागासाकी पर गिराया गया था. इसके बाद से आज तक हमले के लिए दोबारा परमाणु हथियार का इस्तेमाल नही हुआ.हिरोशिमा पर बम गिराए जाने का फैसला बम गिरने से सिर्फ एक घंटा पहले लिया गया था.

(2).हिरोशिमा पर गिराए गए बम का नाम “Little Boy” था. इसका वजन करीब 4000 किलो और लंबाई 10 फीट थी. इसमें यूरेनियिम की मात्रा 65 किलो थी, लेकिन जो विस्फोट हुआ वह सिर्फ 0.7g यूरेनियम की वजह से हुआ. यानि जिस पदार्थ की वजह से विस्फोट हुआ उसका वजन एक आलपिन या डाॅलर के नोट के बराबर भी नही था.नागासाकी पर गिराए गए बम का नाम “Fat Man” था. इसका वजन करीब 4500 किलो और लंबाई 11.5 फीट थी. इसमें 6.4 किलो प्लूटोनियम का प्रयोग किया गया था जो यूरेनियम से कही ज्यादा शक्तिशाली था.

(3).नागासाकी पर गिराए जाने वाला बम पहले जापान के कोकुरा शहर पर गिराया जाना था लेकिन उस समय कोकुरा शहर का मौसम साफ नही था और बादल भी घने थे इसलिए अमेरिकी सेना ने बम नागासाकी पर ही गिरा दिया. यही बम क्योटो शहर पर गिराने का भी प्लान बनाया गया था. लेकिन युद्ध के सेक्रेट्री हेनरी स्टिमसन ने इसे बदलवा दिया क्यूंकि उन्होंने अपनी पत्नी के साथ यहाँ पर हनीमून मनाया था और उनकी कई यादें इस शहर से जुडी हुई थी.

(4).हिरोशिमा पर जो बम गिराया गया उसे ले जाने वाले विमान का नाम “Enola Gay” था. इस विमान में साइनाइड की 12 गोलियाँ भी रखी गई थी, ताकि यदि मिशन फेल हो जाता है तो सारे ऑफिसर उन्हें खा लें. जिस विमान से दूसरा बम गिराया गया उसका नाम “Bockscar” था.बम गिरने की वजह से हिरोशिमा और नागासाकी के करीब 2,46,000 लोग मारे गए थे. लगभग 1 लाख लोग तो बम गिरते ही मारे गए थे और बाकी के अगले कुछ सालों में कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों से मर गए.

(5).हिरोशिमा हमले के समय बम फटने वाली जगह का तापमान 3,00,000°C और उसके नीचे जमीन का तापमान लगभग 4,000 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया था, जो स्टील को पिघलाने के लिए काफी होता है. इस हमले से 1005 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से आंधी चली थी और 10 वर्ग किलोमीटर में गहरे गढ्ढे बन गए थे और 500 मीटर तक 19 tons per square inch का प्रेशर create हुआ था. यह किसी भी विशाल बिल्डिंग को हवा में उड़ाने के लिए काफी था.

(6).नागासाकी और हिरोशिमा आज रेडियोएक्टिव फ्री है. क्योंकि दोनो परमाणु बम जमीन से कुछ सौ फीट की ऊंचाई पर हवा में फटे थे.हिरोशिमा हमले के एक महीने बाद शहर में एक चक्रवात आया था जिसका वजह से 2000 और लोग मारे गए हिरोशिमा बम हमले में एक दर्जन अमेरिकी भी मारे गए थे, ये बात अमेरिका को 1970 में पता चली.

(7).हिरोशिमा पर हमले के बाद एक पुलिसवाला नागासाकी गया था और वहाँ की पुलिस को हमले के लिए सचेत कर दिया इसका रिजल्ट ये रहा, कि नागासाकी परमाणु हमला में एक भी पुलिस वाले की मौत नही हुई.शिकेगी तनाका (Shikegi Tanaka) जो हिरोशिमा हमले के समय 13 साल का था, उसने विस्फोट को 20 मील दूर से देखा था. परमाणु हमले से बचा हुआ यह आदमी छः साल बाद 1951 में बोस्टन गया और वहाँ मैराथन जीतकर दिखाई.

(8).सुतोमो यामागुच्ची दोनो बम हमलों से पीड़ित व्यक्ति था. दरअसल हुआ ये कि जब हिरोशिमा पर बम गिरा तब वो यही था फिर वो अपने गाँव नागासाकी चला गया फिर वहाँ पर भी बम गिरा दिया गया. लेकिन ये इतना भाग्यशाली था कि दोनों बार बच गया. इसकी मौत 2010 में पेट के कैंसर से हुई.हिरोशिमा और नागासाकी पर बम गिराने से पहले अमेरिका ने जापान पर 49 बम अभ्यास के तौर पर गिराए थे. जिसमें 400 लोगो की मौत और 1200 लोग घायल हुए थे.

(9).नागासाकी परमाणु हमले के छः दिन बाद जापान के राजा हिरोहित्तो (Hirohito) ने अमेरिकी सेना के सामने आत्म समर्पण कर दिया. यह घोषणा रेडियों पर की गई थी और ज्यादातर जापानियों ने उसकी आवाज पहली बार सुनी थी. अगर जापान सरेंडर नही करता तो अमेरिका ने 19 अगस्‍त को एक और शहर पर परमाणु बम गिराने की योजना बनाई थी.अमेरिका ने आज तक परमाणु हमलों के लिए जापान से माफी नही मांगी. बराक ओबामा पहले ऐसे अमेरिकी राष्ट्रपति है जिसने हमले के 71 साल बाद हिरोशिमा की यात्रा की.

(10).जापान ने, 1964 में बम हमलों से ग्रसित व्यक्तियों के सम्मान में एक ज्वाला प्रज्वलित की थी जो आज तक चल रही है. यह उस दिन बुझाई जाएगीजिस दिन दुनिया से सभी परमाणु बम खत्म हो जाएगे और ये दुनिया परमाणु हमले से भय मुक्त हो जाएगी.ये तो थी सिर्फ हमले की जानकारी. कल आपको नई पोस्ट के माध्यम से एटम बम, हाइड्रोजन बम etc. इन सबकी जबरदस्त जानकारी दी जाएगी. जैसे: परमाणु बम की expiry date क्या होती है ? परमाणु बम से कितना शोर पैदा होता है ? दुनिया का सबसे शक्तिशाली बम कितनी तबाही मचा सकता