Important information about women costumes of Rajasthan

Rajasthan History, Rajasthan Static GK, Static General GK 0 Comments
women costumes of Rajasthan

Traditional attire for Rajasthani women is ghagra, choli (also called kanchli or kurti) and odhni. The ghagra is a full-length, embroidered and pleated skirt, which comes in a variety of colours, prints and fabrics, such as silk, cotton, georgette and crêpe.And Women’s traditional dress Traditional attire for Rajasthani women is ghagra, choli (also called kanchli or kurti) and odhni. The ghagra is a full-length, embroidered and pleated skirt, which comes in a variety of colours, prints and fabrics, such as silk, cotton, georgette.

इस पोस्ट को हिंदी में पढ़ने के लिया पेज को नीचे की और स्क्रोल करो

 

Important Information About The First And Second Wars Of Tarain

Women’s traditional dress

(1). Dresses (Rajasthani Costumes)

(A). The wearing of tribal women (married women)

(1). Tara Bhanta ki Odhni

(2). Kerry Bhanta’s Tropic

(3). Wave cover

(4). Tide of the tide

(2) .Katki / Pavali Bhanta

(A). The cloak worn by tribal unmarried woman (virgin girl) is called Katki / Pavali Bhanta ki Odhni.

(3). Jam Sai-

(A). The saree of tribal women is called Jam Sai.

(4).Nadana

(A). Ghaghre of tribal women is called Nadana.

(B). Nadana Ghaghra is famous of Bhilwara in Rajasthan.

(5) .Rensai-

(A). The spoil of the Ghaghre of tribal women is called Rensai.

(6). Sindri-

(A). The red colored saree of Bhil women is called Sindri.

(7) .Piria-

(A). Yellow colored lehenga worn by Bhil women is called Piriya.

(8). Tilka

(A). Tilaka is the dress of Muslim women.

(9). Kachhabu

(A). The lehenga worn by Bhil women to the knee is called Kachhabu.

(10).kavar jod-

(a).maama ke dvaara vadhu ke liye laee gaee odhanee ko kavar jod kahate hai.

(11). Bala Chundi-

(A). Chunadi / Odni brought by maternal uncle for the bride’s mother is called Bala Chunadi.

(12) .Pomcha-

(A). The color of the pomache is yellow.

(B). Pomcha is considered famous of Jaipur district in Rajasthan.

(C). The pudding worn by paternal women is called Pomcha.

(13). cheed/cheedh ka pomacha

(A). The black colored veil worn by widow women is called pine pomcha.

राजस्थान की वेशभूषा

(1).औरतों के पहनावे (राजस्थानी वेशभूषा)

(A).आदिवासी महिलाओं (विवाहित महिला) की ओढ़नी-

(1). तारा भांत की ओढ़नी

(2). केरी भांत की ओढ़नी

(3). लहर भांत की ओढ़नी

(4). ज्वार भांत की ओढ़नी

(2).कटकी/ पावली भांत की ओढ़नी-

(A).आदिवासी अविवाहित महिला (कुंवारी कन्या) के द्वारा ओढ़े जाने वाली ओढ़नी को कटकी/ पावली भांत की ओढ़नी कहते है।

(3).जाम साई-

(A).आदिवासी महिलाओं की साड़ी को जाम साई कहते है।

(4).नादंणा-

(A).आदिवासी महिलाओं के घाघरे को नादणा कहते है।

(B).नादणा घाघरा राजस्थान में भिलवाड़ा का प्रसिद्ध है।

(5).रेनसाई-

(A).आदिवासी महिलाओं के घाघरे की छिट को रेनसाई कहते है।

(6).सिंदरी-

(A).भील स्त्रियों के लाल रंग की साड़ी को सिंदरी कहते है।

(7).पिरिया-

(A).भील स्त्रियों के द्वारा पहने जाने वाले पीले रंग के लहंगे को पिरिया कहते है।

(8).तिलका-

(A).तिलका मुस्लिम महिलाओं का पहनावा है।

(9).कछाबू-

(A).भील स्त्रियों के द्वारा घुटने तक पहने जाने वाले लहंगे को कछाबू कहते है।

(10).कवर जोड़-

(A).मामा के द्वारा वधु के लिये लाई गई ओढ़नी को कवर जोड़ कहते है।

(11).बाला चुनड़ी-

(A).मामा के द्वारा वधु की माँ के लिये लाई गई चुनड़ी/ ओढ़नी को बाला चुनड़ी कहते है।

(12).पोमचा-

(A).पोमचे का रंग पीला होता है।

(B).पोमचा राजस्थान में जयपुर जिले का प्रसिद्ध माना जाता है।

(C).जच्चा स्त्रियों के द्वारा ओढ़े जाने वाली ओढ़नी को पोमचा कहते है।

(13).चीड़/चीढ़ का पोमचा-

(A).विधवा महिलाओं के द्वारा ओढ़े जाने वाली काले रंग की ओढ़नी को चीड़ का पोमचा कहते है।

 

Important Information About Prithviraj Chauhan III