International Human Rights Day 10 December, main purpose, themes, quotes, history

Today News GK Article, World GK 0 Comments
Top-Headline-news-Current-Affair-GK-Articles-

International Human Rights Day is observed every year on 10 December worldwide. On 10 December 1948, the United Nations General Assembly announced the adoption of human rights, but it was officially announced in 1950. Human Rights Day is celebrated every year on different themes. The theme of the year 2019 is ‘youth standing up for human rights‘. Professor Henkin is called the father of human rights

इस पोस्ट को हिंदी में पढ़ने के लिया पेज को नीचे की और स्क्रोल करो

International Human Rights Day 10 December main purpose

The main purpose of celebrating Human Rights Day is to make people aware of their rights and prevent discrimination. Human rights are the fundamental rights due to which human beings cannot be oppressed on the basis of race, color, caste, religion, sex, language, nationality and other ideologies etc. Also, giving them cannot also be denied. It also includes health, economic, social, and right to education.

Human Rights Commission in India

The Human Rights Act came into force on 28 September 1993 to protect human rights in India, following which the National Human Rights Commission was formed on 12 October 1993. In India, these commissions work in political, economic, social and cultural fields and show activism on topics such as labor, HIV AIDS, health, child marriage, women’s rights, health, custody and encounter deaths.

How the Human Rights Commission works

The commission conducts hearings and proceedings on a petition filed by a victim or any other person on his behalf. Apart from this, with the approval of the court, human rights abuses also interfere in the related matters. The commission is also empowered to inspect the jail.

History of human rights

Human rights first date back to 539 BCE, when Cyrus freed slaves after conquering Babylon. In the modern era, Professor Henkin of Columbia University School of Law is called the father of human rights. In his five-decade long career, he worked a lot in this field. He played the most important role in shaping international law after World War II.

अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस 10 दिसंबर, मुख्य उद्देश्य, थीम, उद्धरण, इतिहास

दुनियाभर में हर साल 10 दिसंबर को अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस International Human Rights Day मनाया जाता है। 10 दिसंबर 1948 के दिन संयुक्त राष्ट्र सामान्य महासभा ने मानव अधिकारों को अपनाने की घोषणा की थी, लेकिन आधिकारिक तौर पर इसकी घोषणा साल 1950 में की गई। मानवाधिकार दिवस हर साल अलग-अलग थीम पर मनाया जाता है। साल 2019 की थीम ‘यूथ स्टेंडिंग अप फोर ह्युमन राइट्स’ है। प्रोफेसर हेनकिन को मानवाधिकार का पिता कहा जाता है

मानवाधिकार दिवस Human Rights Day मनाने का मुख्य उद्देश्य लोगों को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करना और भेदभाव को रोकना है। मानवाधिकार Human Rights वे मूलभूत अधिकार हैं जिनकी वजह से मनुष्य को नस्ल, रंग color, जाति, धर्म, लिंग, भाषा, राष्ट्रीयता और अन्य विचारधारा आदि के आधार पर प्रताड़ित नहीं किया जा सकता। साथ ही इन्हें देने से भी वंचित नहीं किया जा सकता। इसमें स्वास्थ्य health, आर्थिक सामाजिक, और शिक्षा study का अधिकार भी शामिल है।

भारत में मानवाधिकार आयोग Human Rights

भारत में मानवाधिकारों की रक्षा के लिए 28 September 1993 को मानवाधिकार कानून अमल में आया, जिसके बाद 12 अक्टूबर 1993 को National Human Rights Commission का गठन किया गया। भारत में ये आयोग राजनीतिक, आर्थिक, सामाजिक और सांस्कृतिक कार्यक्षेत्रों में काम करता है और मजदूरों labor, एचआईवी एड्स, हेल्थ health, बाल विवाह, महिला अधिकार, स्वास्थ्य, हिरासत और मुठभेड़ में होने वाली मौतों जैसे विषयों पर सक्रियता दिखाता है।

मानवाधिकार Human Rights आयोग किस तरह काम करता है

कमीशन किसी पीड़ित या उसकी ओर से किसी अन्य व्यक्ति द्वारा दायर की गई याचिका पर सुनवाई और कार्यवाही करता है। इसके अलावा अदालत court की स्वीकृति से मानवाधिकार Human Rights हनन संबंधित मामलों में हस्तक्षेप भी करता है। आयोग को जेल का निरीक्षण करने का भी अधिकार प्राप्त है।

मानवाधिकार Human Rights का इतिहास

मानवाधिकार Human Rights की सर्वप्रथम शुरुआत ईसा पूर्व 539 सदी में मानी जाती है, जब बेबीलॉन को जीतने के बाद साइरस ने गुलामों को आजाद किया था। वहीं आधुनिक युग में Columbia University School of Law के प्रोफेसर हेनकिन को मानवाधिकार का पिता कहा जाता है। अपने पांच दशक लंबे करियर में उन्होंने इस क्षेत्र में बहुत काम किया। द्वितीय विश्व युद्ध war 2nd के बाद अंतर्राष्ट्रीय कानून law को आकार देने में सबसे अहम भूमिका उन्होंने ही निभाई थी।

International Human Rights Day 10 December main purpose themes quotes history, International Human Rights Day 10 December main purpose Human Rights Commission in India History of human rights