Major National Parks And Wildlife Sanctuaries Of Rajasthan Part (3)

Rajasthan Geography, Rajasthan Static GK 0 Comments
Major National Parks and Sanctuaries of Rajasthan

This sanctuary was declared as the first national park of the state on 1 November 1960. In this park, tigers are mainly found besides sambar, chital, nilgai bear, jarakh and chinkara.AndNational Parks, Wildlife Sanctuaries, Chest Prohibition Areas in Rajasthan, Mrigavan in Rajasthan. Important places of Rajasthan GK … Padham Talab, Rajbagh, Malik Talab, Gillai Sagar, Mansarovar and Labhpur Lakes are located in Ranthambore garden area.Known by the names of birds’ paradise etc., this park is located on the ‘golden triangle’ (Delhi-Agra-Jaipur), the major tourist circuit of India. Top National Parks and Wildlife Sanctuaries in Rajasthan,Sariska National Park. The park lies in the Alwar district of Rajasthan and was announced to be a tiger reserve in 1978.Ranthambore National Park.Desert National Park.Mount Abu Wildlife Sanctuary. .Kumbhalgarh Wildlife Sanctuary.Sita Mata Wildlife Sanctuary.National Chambal Sanctuary.Keladevi Wildlife Sanctuary.

इस पोस्ट को हिंदी में पढ़ने के लिया पेज को नीचे की और स्क्रोल करो

Major National Parks And Wildlife Sanctuaries Of Rajasthan part (2).

(1). Keoladeo National Park (Bharatpur, Rajasthan) –

(A). Keoladeo National Park is located in Bharatpur district of Rajasthan.

(B). Keoladeo National Park was established by Maharaja Kishan Singh.

(C). Keoladeo National Park was named as Keoladeo because the temple of Lord Keoladeo (Shivji) is situated in Keoladeo National Park.

(2). Surname or other name of Keoladeo National Park-

(A). Birds’ paradise

(B). Dense Bird Sanctuary

(1). Birds’ Paradise-

(A). Keoladeo National Park located in Bharatpur district of Rajasthan is also known as the paradise of birds.

(2) .Panis Sanctuary-

(A). Keoladeo National Park in Bharatpur district of Rajasthan is also known as dense bird sanctuary.

(3). UNESCO-

(A). The headquarters of UNESCO is located in Paris (France).

(B). UNESCO included Keoladeo National Park in Rajasthan in its World Heritage List in 1985.

(4). Major grass of Keoladeo National Park-

(A). Motha Grass

(B).Aincha ghaas

(1).motha ghaas

(A). Motha grass is most commonly found in Keoladeo National Park in Rajasthan.

(B). Motha grass is the most dangerous (deadliest) grass of Rajasthan.

(C). Birds engulf themselves in Motha grass and die. That’s why Motha grass is considered the most dangerous.

(2).Aincha ghaas

(A). Ancha grass is most commonly found in Keoladeo National Park in Rajasthan.

(B). Ancha grass is also considered to be the most dangerous (deadliest) grass of Rajasthan.

(1). केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान (भरतपुर, राजस्थान)-

(A).केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान राजस्थान के भरतपुर जिले में स्थित है।

(B).केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान की स्थापना महाराजा किशन सिंह ने करवायी थी।

(C).केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान का नाम केवलादेव इसीलिए पड़ा था क्योकी केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान में भगवान केवलादेव (शिवजी) का मंदिर स्थित है।

(2).केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान का उपनाम या अन्य नाम-

(A).पक्षियों का स्वर्ग

(B).घना पक्षी अभयारण्य

(1).पक्षियों का स्वर्ग-

(A).राजस्थान के भरतपुर जिले में स्थित केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान को पक्षियों का स्वर्ग भी कहते है।

(2).पक्षी अभयारण्य-

(A).राजस्थान के भरतपुर जिले में स्थित केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान को घना पक्षी अभयारण्य भी कहते है।

(3).युनेस्को-

(A).युनेस्को का मुख्यालय पैरिस (फ्रांस) में स्थित है।

(B).युनेस्को ने सन् 1985 में राजस्थान के केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान को अपनी विश्व धरोहर सूची में शामिल कर लिया था।

(C).राजस्थान का केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान युनेस्को की विश्व धरोहर सूची में सन् 1985 में शामिल हुआ था।

(4).केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान की प्रमुख घास-

(A).मोथा घास

(B).ऐंचा घास

(1).मोथा घास-

(A).मोथा घास राजस्थान के केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान में सर्वाधिक पायी जाती है।

(B).मोथा घास राजस्थान की सबसे खतरनाक (सबसे घातक) घास है।

(C).मोथा घास में पक्षी उलझ कर अपना दम तोड़ देते है। इसीलिए मोथा घास को सबसे खतरनाक माना जाता है।

(2).ऐंचा घास-

(A).ऐंचा घास राजस्थान के केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान में सर्वाधिक पायी जाती है।

(B).ऐंचा घास को भी राजस्थान की सबसे खतरनाक (सबसे घातक) घास माना जाता है।

(C).ऐंचा घास में भी पक्षी उलझ कर अपना दम तोड़ देते है। इसीलिए ऐंचा घास को भी सबसे खतरनाक माना जाता है।

Major National Parks And Wildlife Sanctuaries Of Rajasthan part (1).